पितरों को जल अर्पण अंगूठे से क्यों किया जाता है?

हमारी हस्तरेखा और हस्त के अलग अलग स्थानों पर एक स्वामी बताए गए हैं। जब भी हम देवी-देवताओं जल अर्पण करते है वह हथेली के अग्र भाग से किया जाता है क्योंकि ये हिस्सा देवी-देवताओं की पूजा के लिए सबसे अच्छा माना जाता है।

ठीक उसी प्रकार हथेली में अंगूठे (thumb) और तर्जनी (index finger) फिंगर के नीचे बीच वाले हिस्से को पितृ तीर्थ कहते हैं, और इसे पितर देवताओं का स्थान माना जाता है। इस कारण पितरों से जुड़े कामों में अंगूठे की ओर से जल चढ़ाने की पंरपरा है। अंगूठे से चढ़ाया गया जल हमारे हाथ के पितृ तीर्थ से होता हुआ पितरों तक पहुंचता है।


संस्कार क्रिया से शरीर, मन और आत्मा मे समन्वय और चेतना होती है, कृप्या अपने प्रश्न साझा करे, हम सदैव तत्पर रहते है आपके प्रश्नो के उत्तर देने के लिया, प्रश्न पूछने के लिया हमे ईमेल करे sanskar@hindusanskar.org संस्कार और आप, जीवन शैली है अच्छे समाज की, धन्यवाद् 

20 views0 comments