शिव पुराण का रहस्य और श्लोका

Updated: Aug 25, 2020

यह निर्मल शिवपुराण भगवान् शिव के द्वारा ही प्रतिपादित है । यह समस्त जीवसमुदाय के लिये उपकारक , त्रिविध तापों का नाश करने वाला , तुलना- रहित एवं सत्पुरुषों को कल्याण प्रदान करने वाला है । इसमें वेदान्त - विज्ञानमय , प्रधान तथा निष्कपट ( निष्काम ) धर्मका प्रतिपादन है ।


पूर्वकाल में भगवान् शिव ने श्लोक संख्या की दृष्टि से सौ करोड़ श्लोकों का एक ही पुराणग्रन्थ ग्रथित किया था । सृष्टि के आदि में निर्मित हुआ वह पुराण - साहित्य अत्यन्त विस्तृत था । फिर द्वापर आदि युगों में द्वैपायन ( व्यास ) आदि महर्षियों ने जब पुराण का अठारह भागों में विभाजन कर दिया , उस समय सम्पूर्ण पुराणों का संक्षिप्त स्वरूप केवल चार लाख श्लोकों का रह गया । उस समय उन्होंने शिवपुराण का चौबीस हजार श्लोकों में प्रतिपादन किया । यही इसके श्लोकों की संख्या है । यह वेदतुल्य पुराण है ।

Shiv MahaPuran

शिव पुराण में १२ भेद या खंड है, जो इस प्रकार है:-


विद्येश्वरसंहिता, रुद्रसंहिता , विनायक संहिता , उमा संहिता , मातृ संहिता , एकादशरुद्र संहिता , कैलास- संहिता , शतरुद्र संहिता , कोटिरुद्र संहिता , सहस्त्र - कोटिरुद्र संहिता , वायवीय संहिता तथा धर्म संहिता -इस प्रकार इस पुराण के बारह भेद या खण्ड हैं । ये बारह संहिताएँ अत्यन्त पुण्यमयी मानी गयी हैं ।

  • विद्येश्वरसंहिता में १० हज़ार श्लोक है ,

  • रुद्रसंहिता, विनायक संहिता , उमासंहिता और मातृसंहिता, इनमे प्रत्येक में ८-८ हज़ार श्लोक है .

  • एकादशरुद्र संहिता में तेरह हजार श्लोक हैं,

  • कैलास संहिता में छः हजार,

  • शतरुद्र संहिता में तीन हजार ,

  • कोटिरुद्र संहिता में नौ हजार ,

  • सहस्रकोटिरुद्र संहिता में ग्यारह

  • वायवीय संहिता में चार हजार तथा,

  • धर्मसंहिता में बारह हजार श्लोक हैं

इस प्रकार मूल शिवपुराण की श्लोक संख्या एक लाख है । परंतु व्यासजी ने उसे चौबीस हजार श्लोकों में संक्षिप्त कर दिया है । पुराणों की क्रमसंख्या के काम विचार से इस शिवपुराण का स्थान चौथा, इसमें सात संहिताएँ हैं ।

संस्कार क्रिया से शरीर, मन और आत्मा मे समन्वय और चेतना होती है

कृप्या अपने प्रश्न साझा करे, हम सदैव तत्पर रहते है आपके प्रश्नो के उत्तर देने के लिया, प्रश्न पूछने के लिया हमे ईमेल करे sanskar@hindusanskar.org संस्कार और आप, जीवन शैली है अच्छे समाज की, धन्यवाद् 

129 views0 comments