कार्तिक मॉस का महत्व

क्या आप जानते है कार्तिक मॉस का महत्व


१० अक्टूबर २०२२ से कार्तिक मॉस प्रारम्भ


कार्तिक मॉस कार्तिक पूर्णिमा से शुरू होकर शरद पूर्णिमा को समाप्त होता है , इस महीने में दान-पुनिया, पूजा-पाठ और स्नान-ध्यान का बहुत महत्व है विशेषकर कार्तिक स्नान का,


इस माह आने वाली देव उठानी या प्रबोधनी एकादशी का विशेष महत्व है,मान्यता है के, देव उठानी एकादशी को श्री विष्णु चार मॉस के जहां निद्रा से बहार आते है, और इस दिन के बाद हे सारे मांगलिक कार्य प्रारम्भ हो जाता है

हिन्दू पंचांग के बारह मॉस में कार्तिक मॉस भगवन विष्णु का मॉस है, इसमे गृह-नक्षत्र योग, तिथि प्रव का क्रम , धन-यश-ऐश्वर्या-लाभ उत्तम स्वास्थ्य देता है


इसी मॉस में शिव पुत्र कार्तिकेयन ने तारकासुर राक्षस का वध करा था, इसलिए इसे कार्तिक मॉस कहते है और यह मॉस विजय मॉस होता है अर्थात जो विजय दिलाता है,

💐🌹#ॐ_नमः_शिवायः🌹🙏💐


संस्कार क्रिया से शरीर, मन और आत्मा मे समन्वय और चेतना होती है, कृप्या अपने प्रश्न साझा करे, हम सदैव तत्पर रहते है आपके प्रश्नो के उत्तर देने के लिया, प्रश्न पूछने के लिया हमे ईमेल करे sanskar@hindusanskar.org संस्कार और आप, जीवन शैली है अच्छे समाज की, धन्यवाद् 

13 views0 comments