top of page

कितने देवता हैं,अति सुन्दर संवाद

Updated: Jun 23, 2022

याज्ञवल्क्य नाम के एक ऋषि ने बृहदारण्यक में अपने शिष्य शाकल्य के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्नों का उत्तर दिया है कि:

"कितने देवता हैं?" याज्ञवल्क्य ने उत्तर दिया "एक।" "बहुत अच्छा,"


शाकल्या ने कहा और पूछा: "वे तीन सौ तीन और वे तीन हजार तीन कौन हैं?"


याज्ञवल्क्य ने कहा: "केवल तैंतीस देवता हैं। ये अन्य केवल उनकी अभिव्यक्ति हैं।"


"ये तैंतीस कौन से हैं?" शाकल्या ने पूछा।


"आठ वसु, ग्यारह रुद्र और बारह आदित्य- ये इकतीस हैं। और इंद्र और प्रजापति तैंतीस को बनाते हैं।"


"वसु कौन से हैं?" सकल्या ने पूछा। "अग्नि, पृथ्वी, वायु, आकाश, सूर्य, स्वर्ग, चंद्रमा और तारे - ये वसुस हैं, क्योंकि उनमें यह सारा ब्रह्मांड (वासवाह) है। इसलिए उन्हें वसु कहा जाता है।


"कौन से रुद्र हैं?" सकल्या ने पूछा। "मनुष्य के शरीर में दस अंग, ग्यारहवें मन के साथ। जब वे इस नश्वर शरीर से विदा होते हैं, तो वे अपने रिश्तेदारों को रुलाते हैं। क्योंकि वे उन्हें रुलाते हैं, इसलिए उन्हें रुद्र कहा जाता है।

"आदित्य कौन हैं?" सकल्या ने पूछा। "वर्ष में बारह महीने होते हैं। ये आदित्य हैं, क्योंकि वे यह सब अपने साथ ले जाते हैं, इसलिए उन्हें आदित्य कहा जाता है।

यह शरीर की रचना समस्त देवी-देवता से हुई है इसका आदर करे और कोशिश करे के आपके विचारों से और उन विचारों के माध्यम कर्मो से हमेशा अच्छी वाणी और कर्म हो

संस्कार क्रिया से शरीर, मन और आत्मा मे समन्वय और चेतना होती है, कृप्या अपने प्रश्न साझा करे, हम सदैव तत्पर रहते है आपके प्रश्नो के उत्तर देने के लिया, प्रश्न पूछने के लिया हमे ईमेल करे sanskar@hindusanskar.org संस्कार और आप, जीवन शैली है अच्छे समाज की, धन्यवाद् 

18 views0 comments