top of page

ज़रूर पढ़े -भारत में गुरुकुल शिक्षा पद्धति

भारत में गुरुकुल शिक्षा पद्धति की बहुत लंबी परंपरा रही है। गुरुकुल में विद्यार्थी विद्या अध्ययन करते थे। तपोस्थली में सभा, सम्मेलन और प्रवचन होते थे जबकि परिषद में विशेषज्ञों द्वारा शिक्षा दी जाती थी।

प्राचीनकाल में धौम्य, च्यवन ऋषि, द्रोणाचार्य, सांदीपनि, वशिष्ठ, विश्वामित्र, वाल्मीकि, गौतम, भारद्वाज आदि ऋषियों के आश्रम प्रसिद्ध रहे। बौद्धकाल में बुद्ध, महावीर और शंकराचार्य की परंपरा से जुड़े गुरुकुल जगप्रसिद्ध थे, जहां विश्वभर से मुमुक्षु ज्ञान प्राप्त करने आते थे और जहां गणित, ज्योतिष, खगोल, विज्ञान, भौतिक आदि सभी तरह की शिक्षा दी जाती थी।

प्रत्येक गुरुकुल अपनी विशेषता के लिए प्रसिद्ध था। कोई धनुर्विद्या सिखाने में कुशल था तो कोई वैदिक ज्ञान देने में। कोई अस्त्र-शस्त्र सिखाने में तो कोई ज्योतिष और खगोल विज्ञान में दक्ष था। जैसा कि आजकल होता है कि इंजीनियरिंग कॉलेज अलग और कॉमर्स कॉलेज अलग।

विश्वामित्र का आश्रम : राम और लक्ष्मण ने ऋषि विश्वामित्र के यहां रहकर शिक्षा प्राप्त की थी। विश्वामित्र गायत्री के बहुत बड़े उपासक थे। माना जाता है कि महर्षि विश्वामित्र का आश्रम बक्सर (बिहार) में स्थित था। इस स्थान को गंगा-सरयू संगम के निकट बताया गया है। विश्वामित्र के आश्रम को 'सिद्धाश्रम' भी कहा जाता था।

रामायण के अनुसार राम और लक्ष्मण ने विश्वामित्र के आश्रम में रहकर ही ताड़का, सुबाहु आदि राक्षसों को मारा था। हालांकि यदि हम उनकी तपोभूमि की बात करें तो वह हरिद्वार में थी, जहां आज शांति निकेतन बना है।

विश्वामित्र वैदिक काल के विख्यात ऋषि थे। उनके ही काल में ऋषि वशिष्ठ थे , अड़ी अर्थात प्रतिद्वंद्विता। विश्वामित्र के जीवन के प्रसंगों में मेनका और त्रिशंकु का प्रसंग भी बड़ा ही महत्वपूर्ण है। प्रजापति के पुत्र कुश, कुश के पुत्र कुशनाभ और कुशनाभ के पुत्र राजा गाधि थे। विश्वामित्रजी उन्हीं गाधि के पुत्र थे।


भारद्वाज मुनि का आश्रम : वैदिक ऋषियों में भारद्वाज-ऋषि का अति उच्च स्थान है। भारद्वाज मुनि का आश्रम प्रयाग में था। ये विमानशास्त्र में प्रवीण थे। इसके अलावा यहां वैदिक ज्ञान की शिक्षा भी दी जाती थी। भारद्वाज के पिता बृहस्पति और माता ममता थीं।

रामायण के एक प्रसंग के अनुसार उनका आश्रम गंगा यमुना के संगम प्रयाग में था। राम, लक्ष्मण और सीता गंगा पार करने के उपरांत चलते-चलते गंगा-यमुना के संगम स्थल पर श्री भारद्वाज के आश्रम में पहुंचे थे।

ऋषि भारद्वाज के 10 पुत्र थे। सभी पुत्र ऋग्वेद के मंत्रदृष्टा माने गए हैं। उनकी 2 पुत्रियां भी थीं जिसमें से एक का नाम 'रात्रि' था, वे रात्रि सूक्त रचयिता थीं। दूसरी का नाम कशिपा था। भारद्वाज के 10 पुत्रों के नाम हैं- ऋजिष्वा, गर्ग, नर, पायु, वसु, शास, शिराम्बिठ, शुनहोत्र, सप्रथ और सुहोत्र।

ऋषि भारद्वाज व्याकरण, धर्मशास्त्र, शिक्षाशास्त्र, राजशास्त्र, अर्थशास्त्र, धनुर्वेद, आयुर्वेद और भौतिक विज्ञानशास्त्र आदि अनेक विषयों में पारंगत थे। चरक संहिता के अनुसार उन्होंने इंद्र से व्याकरण और आयुर्वेद की शिक्षा ग्रहण कर आयुर्वेद संहिता लिखी। महाभारत के अनुसार भारद्वाज ने महर्षि भृगु से धर्मशास्त्र की शिक्षा ग्रहण कर 'भारद्वाज-स्मृति' की रचना की।

ऋषि भारद्वाज ने 'यंत्र-सर्वस्व' नामक वृहद ग्रंथ की रचना की थी। इस ग्रंथ का कुछ भाग स्वामी ब्रह्ममुनि ने 'विमानशास्त्र' के नाम से प्रकाशित कराया है। इस ग्रंथ में उच्च और निम्न स्तर पर विचरने वाले विमानों के लिए विविध धातुओं के निर्माण का वर्णन मिलता है।


भारद्वाज मुनि का आश्रम : वैदिक ऋषियों में भारद्वाज-ऋषि का अति उच्च स्थान है। भारद्वाज मुनि का आश्रम प्रयाग में था। ये विमानशास्त्र में प्रवीण थे। इसके अलावा यहां वैदिक ज्ञान की शिक्षा भी दी जाती थी। भारद्वाज के पिता बृहस्पति और माता ममता थीं।

रामायण के एक प्रसंग के अनुसार उनका आश्रम गंगा यमुना के संगम प्रयाग में था। राम, लक्ष्मण और सीता गंगा पार करने के उपरांत चलते-चलते गंगा-यमुना के संगम स्थल पर श्री भारद्वाज के आश्रम में पहुंचे थे।

ऋषि भारद्वाज के 10 पुत्र थे। सभी पुत्र ऋग्वेद के मंत्रदृष्टा माने गए हैं। उनकी 2 पुत्रियां भी थीं जिसमें से एक का नाम 'रात्रि' था, वे रात्रि सूक्त रचयिता थीं। दूसरी का नाम कशिपा था। भारद्वाज के 10 पुत्रों के नाम हैं- ऋजिष्वा, गर्ग, नर, पायु, वसु, शास, शिराम्बिठ, शुनहोत्र, सप्रथ और सुहोत्र।

ऋषि भारद्वाज व्याकरण, धर्मशास्त्र, शिक्षाशास्त्र, राजशास्त्र, अर्थशास्त्र, धनुर्वेद, आयुर्वेद और भौतिक विज्ञानशास्त्र आदि अनेक विषयों में पारंगत थे। चरक संहिता के अनुसार उन्होंने इंद्र से व्याकरण और आयुर्वेद की शिक्षा ग्रहण कर आयुर्वेद संहिता लिखी। महाभारत के अनुसार भारद्वाज ने महर्षि भृगु से धर्मशास्त्र की शिक्षा ग्रहण कर 'भारद्वाज-स्मृति' की रचना की।

ऋषि भारद्वाज ने 'यंत्र-सर्वस्व' नामक वृहद ग्रंथ की रचना की थी। इस ग्रंथ का कुछ भाग स्वामी ब्रह्ममुनि ने 'विमानशास्त्र' के नाम से प्रकाशित कराया है। इस ग्रंथ में उच्च और निम्न स्तर पर विचरने वाले विमानों के लिए विविध धातुओं के निर्माण का वर्णन मिलता है।


कपिल मुनि : एक प्रसंग है कि जब राजा सगर ने अश्वमेध यज्ञ किया तो उन्होंने अपने 60 हजार पुत्रों को उस घोड़े की सुरक्षा में नियुक्त किया। देवराज इंद्र ने उस घोड़े को छलपूर्वक चुराकर कपिल मुनि के आश्रम में बांध दिया था ताकि कोई वहां नहीं जा सके।

राजा सगर के 60 हजार पुत्र उस घोड़े को ढूंढते-ढूंढते जब कपिल मुनि के आश्रम पहुंचे तो उन्हें लगा कि मुनि ने ही यज्ञ का घोड़ा चुराया है। यह सोचकर उन्होंने कपिल मुनि का अपमान कर दिया। ध्यानमग्न कपिल मुनि ने जैसे ही अपनी आंखें खोली, राजा सगर के 60 हजार पुत्र वहीं भस्म हो गए।

कपिल मुनि 'सांख्य दर्शन' के प्रवर्तक थे। इनकी माता का नाम देवहुती व पिता का नाम कर्दम था। कपिल ने माता को जो ज्ञान दिया, वही 'सांख्य दर्शन' कहलाया। महाभारत में ये सांख्य के वक्ता कहे गए हैं।

कपिलवस्तु, जहां बुद्ध पैदा हुए थे, कपिल के नाम पर बसा नगर था। सगर के पुत्र ने सागर के किनारे कपिल को देखा। बाद में वहीं गंगा का सागर के साथ संगम हुआ। इससे मालूम होता है कि कपिल का जन्मस्थान संभवत: कपिलवस्तु और तपस्या क्षेत्र गंगासागर था।

रामायण के अनुसार जल की खोज में थके-मांदे राम, सीता और लक्ष्मण कपिल की कुटिया में पहुंचे।

कण्व : माना जाता है कि इस देश के सबसे महत्वपूर्ण यज्ञ सोमयज्ञ को कण्वों ने व्यवस्थित किया। कण्व वैदिक काल के ऋषि थे। इन्हीं के आश्रम में हस्तिनापुर के राजा दुष्यंत की पत्नी शकुंतला एवं उनके पुत्र भरत का पालन-पोषण हुआ था।

103 सूक्त वाले ऋग्वेद के 8वें मंडल के अधिकांश मंत्र महर्षि कण्व तथा उनके वंशजों तथा गोत्रजों द्वारा दृष्ट हैं। कुछ सूक्तों के अन्य भी द्रष्ट ऋषि हैं, किंतु 'प्राधान्येन व्यपदेशा भवन्ति' के अनुसार महर्षि कण्व अष्टम मंडल के द्रष्टा ऋषि कहे गए हैं। इनमें लौकिक ज्ञान-विज्ञान तथा अनिष्ट-निवारण संबंधी उपयोगी मंत्र हैं।

महाभारत के आदिपर्व में वर्णित है कि कण्व ऋषि के आश्रम में अनेक नैयायिक रहा करते थे, जो न्याय तत्वों के कार्यकारणभाव, कथा संबंधी स्थापना, आक्षेप और सिद्धांत आदि के ज्ञाता थे। न्याय दर्शन के रचयिता महर्षि गौतम थे।

सोनभद्र में जिला मुख्यालय से 8 किलोमीटर की दूरी पर कैमूर श्रृंखला के शीर्ष स्थल पर स्थित कण्व ऋषि की तपस्थली है, जो कंडाकोट नाम से जानी जाती है।


अत्रि : ऋग्वेद के पंचम मंडल के दृष्टा महर्षि अत्रि ब्रह्मा के पुत्र सोम के पिता और कर्दम प्रजापति व देवहूति की पुत्री अनुसूया के पति थे। अत्रि ऋषि ने

अत्रि ऋषि का आश्रम चित्रकूट में था। मान्यता है कि अत्रि-दंपति की तपस्या और त्रिदेवों की प्रसन्नता के फलस्वरूप विष्णु के अंश से महायोगी दत्तात्रेय, ब्रह्मा के अंश से चंद्रमा तथा शंकर के अंश से महामुनि दुर्वासा महर्षि अत्रि एवं देवी अनुसूया के पुत्र रूप में जन्मे। ऋषि अत्रि पर अश्विनीकुमारों की भी कृपा थी।


गौतम ऋषि का आश्रम : गौतम ऋषि न्याय दर्शन के प्रवर्तक थे। देवी अहिल्या उनकी पत्नी थी।

महर्षि गौतम बाण विद्या में अत्यंत निपुण थे। महर्षि गौतम न्यायशास्त्र के अतिरिक्त स्मृतिकार भी थे तथा उनका धनुर्वेद पर भी कोई ग्रंथ था, ऐसा विद्वानों का मत है। उनके पुत्र शतानंद निमि कुल के आचार्य थे।


शौनक : शौनक ने 10 हजार विद्यार्थियों के गुरुकुल को चलाकर कुलपति का विलक्षण सम्मान हासिल किया और किसी भी ऋषि ने ऐसा सम्मान पहली बार हासिल किया। वैदिक आचार्य और ऋषि, जो शुनक ऋषि के पुत्र थे।


परशुराम का आश्रम : जब एक बार गणेशजी ने परशुराम को शिव-दर्शन से रोक लिया तो रुष्ट परशुराम ने उन पर परशु का प्रहार कर दिया जिससे गणेशजी का एक दांत नष्ट हो गया और वे एकदंत कहलाए। जनक, दशरथ आदि राजाओं का उन्होंने समुचित सम्मान किया।

प्रारंभ में परशुराम का आश्रम नर्मदा नदी के तट पर स्थित था। बाद में वे अगत्स्य मुनि की तरह दक्षिण प्रदेश चले गए थे, जहां ‍उन्होंने नया आश्रम स्थापित कर शस्त्र और शास्त्र की शिक्षा दी। एक बार श्रीकृष्ण उनसे दक्षिण के इसी आश्रम में मिलने गए थे।

सीता स्वयंवर में श्रीराम का अभिनंदनकिया। कौरव-सभा में कृष्ण का समर्थन किया। असत्य वाचन करने के दंडस्वरूप कर्ण को सारी विद्या विस्मृत हो जाने का श्राप दिया था। उन्होंने भीष्म, द्रोण व कर्ण को शस्त्र विद्या प्रदान की थी। इस तरह परशुराम के अनेक किस्से हैं।


वेदव्यास : महर्षि वेदव्यासजी का पूरा नाम कृष्णद्वैपायन है। उन्होंने वेदों का विभाग किया इसलिए उनको व्यास या वेदव्यास कहा जाता है। उनके पिता महर्षि पराशर तथा माता सत्यवती है। भारतभर में गुरुपूर्णिमा के दिन गुरुदेव की पूजा के साथ महर्षि व्यास की पूजा भी की जाती है। द्वापर युग के अंतिम भाग में व्यासजी प्रकट हुए थे। उन्होंने महाभारत सहित सैकड़ों ग्रंथों की रचना की !

कृष्ण द्वैपायन वेदव्यासजी ने ब्रह्मा की प्रेरणा से 4 शिष्यों को 4 वेद पढ़ाए-

* मुनि पैल को ऋग्वेद

* वैशंपायन को यजुर्वेद

* जैमिनी को सामवेद तथा

* सुमंतु को अथर्ववेद पढ़ाया।

उक्त 4 शिष्यों ने दुनियाभर में अपने-अपने आश्रम खोलकर वेदों की शिक्षा दी। इस तरह वैदिक ज्ञान का व्यापक पैमाने पर प्रचार-प्रसार हुआ और संपूर्ण धरती फिर से वेदमय बन गई थी।


सांदीपनि ऋषि का आश्रम : सांदीपनि ऋषि का आश्रम मध्यप्रदेश के उज्जैन नगर स्थित ‍‍शिप्रा नदी के किनारे तपोभूमि के रूप में प्रतिष्ठित था। प्राचीनकाल में यह आश्रम जगप्रसिद्ध था तथा यहां से उच्च कोटि के शिष्य गुरु से गुरु विद्या सीखकर गए जिनमें प्रमुख हैं- कृष्ण, बलराम और सुदामा। आज भी सांदीपनि ऋषि के आश्रम के अवशेष पाए जाते हैं।

भगवान कृष्ण, बलराम और सुदामा के गुरु थे महर्षि सांदीपनि। इनका आश्रम आज भी मध्यप्रदेश के उज्जैन में है। सांदीपनि के गुरुकुल में कई महान राजाओं के पुत्र पढ़ते थे। श्रीकृष्णजी की आयु उस समय 18 वर्ष की थी और वे उज्जयिनी के सांदीपनि ऋषि के आश्रम में रहकर उनसे शिक्षा प्राप्त कर चुके थे।

सांदीपनि ने भगवान श्रीकृष्ण को 64 कलाओं की शिक्षा दी थी। भगवान विष्णु के पूर्ण अवतार श्रीकृष्ण ने सर्वज्ञानी होने के बाद भी सांदीपनि ऋषि से शिक्षा ग्रहण की और ये साबित किया कि कोई इंसान कितना भी प्रतिभाशाली या गुणी क्यों न हो, उसे जीवन में फिर भी एक गुरु की आवश्यकता होती ही है।

गुरु द्रोण का आश्रम : गुरु द्रोण का आश्रम हस्तिनापुर में था। उन्होंने हजारों शिष्यों को शिक्षा दी। उन शिष्यों में पांडु पुत्र पांडव का नाम विशेष रूप से लिया जाता है। गुरु द्रोण युद्ध से जुड़ी सभी तरह की शिक्षा देने में पारंगत थे।

भारत के 16 जनपदों में से एक कुरु जनपद में घुड़सवारी, धनुर्विद्या और अन्य हस्त और दिव्यास्त्रों की शिक्षा का यह प्रमुख आश्रम था। हालांकि यहां ज्योतिष, चिकित्सा और वैदिक ज्ञान की शिक्षा भी दी जाती थी।

द्वापर युग में कौरवों और पांडवों के गुरु रहे द्रोणाचार्य भी श्रेष्ठ शिक्षकों की श्रेणी में काफी सम्मान से गिने जाते हैं। द्रोणाचार्य अपने युग के श्रेष्ठतम शिक्षक थे। द्रोणाचार्य भारद्वाज मुनि के पुत्र थे। ये संसार के श्रेष्ठ धनुर्धर थे। द्रोण का जन्म उत्तरांचल की राजधानी देहरादून में बताया जाता है जिसे हम देहराद्रोण (मिट्टी का सकोरा) भी कहते थे। द्रोणाचार्य का विवाह कृपाचार्य की बहन कृपि से हुआ जिनसे उन्हें अश्वत्थामा नामक पुत्र मिला।

द्रोण के हजारों शिष्य थे जिनमें अर्जुन को उन्होंने विश्व का सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर होने का वरदान दिया। इस वरदान की रक्षा करने के लिए ही द्रोण ने जब देखा कि अर्जुन से भी श्रेष्ठ एकलव्य श्रेष्ठ धनुर्धर है तो उन्होंने एकलव्य से उसका अंगूठा मांग लिया।

महाभारत युद्ध में द्रोण कौरवों की ओर से लड़े थे। द्रोणाचार्य और उनके पुत्र अश्वथामा जब पांडवों की सेना पर भारी पड़ने लगे, तब एक छल से धृष्टद्युम्न ने उनका सिर काट दिया। द्रोण एक महान गुरु थे। इतिहास में उनका नाम अजर-अमर रहेगा।

इसके अलावा अगस्त्य, कश्यप, अष्टावक्र, याज्ञवल्क्य, कात्यायन और ऐतरेय के भी गुरुकुल थे।


प्राचीनकाल के प्रसिद्ध गुरुकुलों के नाम:


  1. असुर गुरुकुल (शुक्र)

  2. देव गुरुकुल (बृहस्पति)

  3. माहेश्वर गुरुकुल

  4. ब्राह्म गुरुकुल

  5. प्राजापत्य गुरुकुल

ऋषि गुरुकुल:

  1. मारीच गुरुकुल

  2. वाशिष्ठ गुरुकुल

  3. भारद्वाज गुरुकुल

  4. वामदेव गुरुकुल

  5. गौतमीय गुरुकुल

रामायणकालीन गुरुकुल:

  1. सौर गुरुकुल

  2. वाशिष्ठ गुरुकुल

  3. आगस्त्य गुरुकुल

  4. सौतीक्ष्ण गुरुकुल

  5. आसुर गुरुकुल

  6. ऐन्द्र गुरुकुल


महाभारतकालीन गुरुकुल:

  1. देवगुरुकुल

  2. परशुरामगुरुकुल

  3. हस्तिनापुरस्य राजकीयगुरुकुलम्

  4. पाराशर गुरुकुल

  5. सांदीपनिगुरुकुल

  6. विजयगुरुकुल

जुड़े अपनी संस्कृति और संस्कारों से,Hindu Sanskar एक प्रयास है सनातन धर्म और संस्कारों को आज के परिवेश में विश्व विख्यात करना, कृप्या अपने प्रश्न साझा करे, हम सदैव तत्पर रहते है आपके प्रश्नो के उत्तर देने के लिया, प्रश्न पूछने के लिया हमे ईमेल करे sanskar@hindusanskar.org संस्कार और आप, जीवन शैली है अच्छे समाज की, धन्यवाद्