क्या होता है उपच्छाया ग्रहण ?

5 जून को लगने वाला ग्रहण उपच्छाया चंद्रग्रहण है, चंद्र ग्रहण के शुरू होने से पहले चंद्रमा धरती की छाया में प्रवेश करता है जब चंद्रमा पृथ्वी की वास्तविक छाया में प्रवेश किए बिना ही बाहर निकल आता है तो उसे उपच्छाया ग्रहण कहते हैं ।


चंद्रमा जब धरती की वास्तविक छाया में प्रवेश करता है तभी उसे पूर्ण रूप से चंद्रग्रहण माना जाता है, उपच्छाया ग्रहण को वास्तविक चंद्रग्रहण नहीं माना जाता ज्योतिष शास्त्र में भी उपच्छाया को ग्रहण का दर्जा नहीं दिया गया है!

क्या होता है उपच्छाया ग्रहण?

दिनांक 5 जून 2020 के दिन चंद्र ग्रहण के बारे में जो बात सामने आई उसका निर्णय यह है कि यह एक उपच्छाया चंद्रग्रहण है चंद्र मलिन योग है, अर्थात इस ग्रहण का भारतवर्ष में कहीं कोई दोष नहीं माना जाएगा!


यह चंद्रग्रहण एशिया ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका में दिखाई देगा भारत में भी यह ग्रहण कुछ स्थानों पर दिखाई दे सकता है लेकिन उपच्छाया ग्रहण होने की वजह से यहां किसी भी तरह के धार्मिक कार्य नहीं रोके जाएंगे अर्थात किसी भी प्रकार का सूतक दोष नहीं माना जाएगा!


🙏🏼🙏🏼आपका दिन मंगलमय हो🙏🏼🙏🏼


कृप्या अपने प्रश्न साझा करे, हम सदैव तत्पर रहते है आपके प्रश्नो के उत्तर देने के लिया, शास्त्री जी डी डी द्विवेदी से प्रश्न पूछने के लिया हमे ईमेल करे sanskar@hindusanskar.org संस्कार और आप, जीवन शैली है अच्छे समाज की, धन्यवाद् 

14 views0 comments