top of page

वैकुंठ एकादशी व्रत महत्व 2022

पौष माह (Paush Month) के शुक्ल पक्ष की एकादशी ( Ekadashi) तिथि को वैकुंठ एकादशी व्रत (Vaikuntha Ekadashi Vrat) रखा जाता है. इस एकादशी व्रत को वैकुंठ एकादशी (Vaikuntha Ekadashi), मोक्षदा एकादशी, पौष पुत्रदा एकादशी (Putrada Ekadashi) अथवा  मुक्कोटी एकादशी भी कहते हैं, मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी का पूजन करने व व्रत करने से मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति भी होती है.​


वैकुंठ एकादशी व्रत गुरुवार, 13 जनवरी, 2022 को मनाया जाएगा। एकादशी तिथि 12 जनवरी, 2022 को शाम 04:49 बजे शुरू होगी और 13 जनवरी, 2022 को शाम 07:32 बजे समाप्त होगी।​


ऐसा माना जाता है कि वैकुंठ एकादशी के दिन, भगवान विष्णु के आंतरिक गर्भगृह का द्वार खोला जाता है, जिसे वैकुंठ द्वारम भी कहा जाता है।


संस्कार क्रिया से शरीर, मन और आत्मा मे समन्वय और चेतना होती है, कृप्या अपने प्रश्न साझा करे, हम सदैव तत्पर रहते है आपके प्रश्नो के उत्तर देने के लिया, प्रश्न पूछने के लिया हमे ईमेल करे sanskar@hindusanskar.org संस्कार और आप, जीवन शैली है अच्छे समाज की, धन्यवाद् 

Comments


bottom of page