top of page

कलयुग कैसा होगा शिवपुराण में लिखा है

घोर कलियुग आने पर मनुष्य पुण्य कर्म से दूर रहेंगे , दुराचार में फँस जायेंगे और सब -के-सब सत्य-भाषण से मुँह फेर लेंगे, दूसरों की निन्दा में तत्पर होंगे । पराये धन को हड़प लेने की इच्छा करेंगे । उनका मन परायी स्त्रियों में आसक्त होगा तथा वे दूसरे प्राणियों की हिंसा किया करेंगे । मूढ़, नास्तिक और पशु बुद्धि रखने वाले होंगे , माता-पिता से द्वेष रखेंगे ।

अपने शरीर को ही आत्मा समझेंगे ।

ब्राह्मण लोभरूपी ग्राहके ग्रास बन जायँगे । वेद बेचकर जीविका चलायेंगे । धन का उपार्जन करने के लिये ही विद्या का अभ्यास करेंगे और मद से मोहित रहेंगे । अपनी जाति के कर्म छोड़ देंगे । प्रायः दूसरों को ठगेंगे , तीनों काल की संध्योपासना से दूर रहेंगे और ब्रह्मज्ञान से शून्य होंगे ।

शिव पुराण में लिखा है कलयुग कैसा होगा

समस्त क्षत्रिय भी स्वधर्म का त्याग करने वाले होंगे । कुसंगी , पापी और व्यभिचारी होंगे । उनमें शौर्य का अभाव होगा । वे कुत्सित चौर्य- कर्म से जीविका चलायेंगे , शूद्रों का - सा बर्ताव करेंगे और उनका चित्त काम का किंकर बना रहेगा ।


वैश्य संस्कार - भ्रष्ट , स्वधर्मत्यागी , कुमार्गी , धनोपार्जन - परायण तथा नाप - तौल में अपनी कुत्सित वृत्तिका परिचय देनेवाले होंगे ।


इसी तरह शूद्र ब्राह्मणों के आचार में तत्पर होंगे उनकी आकृति उज्ज्वल होगी अर्थात् वे अपना कर्म - धर्म छोड़कर उज्ज्वल वेश-भूषा से विभूषित हो व्यर्थ घूमेंगे । वे स्वभावत : ही अपने धर्म का त्याग करनेवाले होंगे । उनके विचार धर्म के प्रतिकूल होंगे । वे कुटिल और द्विजनिन्दक होंगे । यदि धनी हुए तो कुकर्म में लग जायेंगे । विद्वान् हुए तो वाद - विवाद करने वाले होंगे । अपने को कुलीन मानकर चारों वर्गों के साथ वैवाहिक सम्बन्ध स्थापित करेंगे, समस्त वर्णोंको अपने सम्पर्क से भ्रष्ट करेंगे । वे लोग अपनी अधिकार-सीमा से बाहर जाकर द्विजोचित सत्कर्मों का अनुष्ठान करने वाले होंगे ।


कलियुग की स्त्रियाँ प्रायः सदाचार से भ्रष्ट और पति का अपमान करने वाली होंगी । सास ससुर से द्रोह करेंगी । किसी से भय नहीं मानेंगी । मलिन भोजन करेंगी । कुत्सित हाव-भाव में तत्पर होंगी । उनका शील - स्वभाव बहुत बुरा होगा और वे अपने पति की सेवा से सदा ही विमुख रहेंगी।

संस्कार क्रिया से शरीर, मन और आत्मा मे समन्वय और चेतना होती है, कृप्या अपने प्रश्न साझा करे, हम सदैव तत्पर रहते है आपके प्रश्नो के उत्तर देने के लिया, प्रश्न पूछने के लिया हमे ईमेल करे sanskar@hindusanskar.org संस्कार और आप, जीवन शैली है अच्छे समाज की, धन्यवाद् 

126 views0 comments
bottom of page