top of page

Sawan Somvar 2020 Date, Significance, Puja,Shubh Muhurat and Mantra

Updated: Oct 18, 2020

Shravan (श्रावण मास ) is the fifth month of the Hindu lunar calendar and is considered holy because it is dedicated to the worship of Lord Shiva and Mata Parvati. It also marks the beginning of the Chaturmas.


The important dates in Shravan as per Purnimant are:


July 6 – First Shravan Somwar (First Monday and the first day of Shravan)


July 13 – Second Shravan Somwar


July 20 – Third Shravan Somwar


July 27 – Fourth Shravan Somwar


August 3 – Fifth Shravan Somwar (last Somwar and the last day of the month)

सावन 2020: छह जुलाई से शुरू होगा मास, पांच सोमवार के साथ बन रहा ये खास योग

As per the Amavasyant calendar (the Hindu calendar in which a month ends with Amavasya or the New Moon day), the important dates are:


July 21 – Shravan month begins


July 27 – First Shravan Somwar


August 3 – Second Shravan Somwar


August 10 – Third Shravan Somwar


August 17 – Fourth Shravan Somwar


August 19 – Shravan month ends

सावन 2020 में इस बार सोमवार का अद्भुत संयोग बन रहा है
  • सावन के सोमवार को सोम या चंद्रवार भी कहते हैं। यह दिन भगवान शिव को अतिप्रिय है।

  • सावन में मंगलवार को मंगलागौरी व्रत,

  • बुधवार को बुध गणपति व्रत,

  • बृहस्पतिवार को बृहस्पति देव व्रत,

  • शुक्रवार को जीवंतिका व्रत,

  • शनिवार को बजरंग बली व नृसिंह व्रत और रविवार को सूर्य व्रत होता है।

सावन में श्रवण नक्षत्र तथा सोमवार से भगवान शिव का गहरा संबंध है। भगवान शिव ने स्वयं सनत्कुमार से कहा है मुझे बारह महीनों में सावन (श्रावण) विशेष प्रिय है। इसी काल में वे श्रीहरि के साथ मिलकर लीला करते हैं। इस मास की विशेषता है कि इसका कोई दिन व्रत शून्य नहीं देखा जाता है।श्रावण मास व श्रवण नक्षत्र के स्वामी चंद्र, और चंद्र के स्वामी भगवान शिव, सावन मास के अधिष्ठाता देवाधिदेव शिव ही हैं।  

Hindu Sanskar are way of life, creating values and respect in current soceity
Hindu Sanskar

कृप्या अपने प्रश्न साझा करे पूजा विधि, शुभ मुहूर्त एवं मंत्र , हम सदैव तत्पर रहते है आपके प्रश्नो के उत्तर देने के लिया, शास्त्री जी से प्रश्न पूछने के लिया हमे ईमेल करे sanskar@hindusanskar.org संस्कार और आप, जीवन शैली है अच्छे समाज की, धन्यवाद् 

16 views0 comments
bottom of page