top of page

लोहड़ी-दिलों और खुशियों का पर्व

लोहड़ी दोस्तों और परिवार के बीच एकता और बंधन का त्योहार है


वे प्रार्थना करते हैं "आदर आये दलतर जाये " जिसका अर्थ है "खुशिया आये गरीबी जाये " आग में भूमि की उर्वरता और प्रचुर मात्रा में फसलों के लिए आशीर्वाद लिया जाता है ।


लोहड़ी हर साल 13 जनवरी को मनाई जाती है। यह सर्दियों के मौसम के गुजरने का प्रतीक है। मान्यताओं के अनुसार, लोहड़ी में सर्दी बीतने से पहले सबसे लंबी रात होती है और इसके बाद साल का सबसे छोटा दिन होता है जिसे हिंदू चंद्र कैलेंडर में माघ के नाम से जाना जाता है।

शाम को, लोग परिक्रमा के लिए इकट्ठा होते हैं और वे पॉपकॉर्न, मुरमुरे और रेवाड़ी जैसे खाने को अलाव में फेंक देते हैं। अलाव में गन्ने को भी प्रसाद के रूप में फेंका जाता है। इससे जलती हुई चीनी की महक चारों तरफ फैल जाती है।


लोहड़ी उर्वरता और जीवन की खुशी का जश्न मनाने का त्योहार है।


संस्कार क्रिया से शरीर, मन और आत्मा मे समन्वय और चेतना होती है, कृप्या अपने प्रश्न साझा करे, हम सदैव तत्पर रहते है आपके प्रश्नो के उत्तर देने के लिया, प्रश्न पूछने के लिया हमे ईमेल करे sanskar@hindusanskar.org संस्कार और आप, जीवन शैली है अच्छे समाज की, धन्यवाद् 

bottom of page