निर्जला एकादशी-पर्व, व्रत और मुहूर्त

हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियाँ होती हैं। जब अधिकमास या मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर २६ हो जाती है। ज्येष्ठ मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी कहते है इस व्रत मे पानी का पीना वर्जित है इसिलिये इस निर्जला एकादशी कहते है।

Nirjala ekadashi dates
Shri Vishnu Nirjala Ekadashi

पौराणिक कथा:


जब सर्वज्ञ वेदव्यास ने पांडवों को चारों पुरुषार्थ- धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष देने वाले एकादशी व्रत का संकल्प कराया तो महाबली भीम ने निवेदन किया,"हे परम आदरणीय मुनिवर! मेरे परिवार के सभी लोग एकादशी व्रत करते हैं और मुझे भी व्रत करने के लिए कहते हैं। लेकिन मैं भूखा नहीं रह सकता हूं अत: आप मुझे कृपा करके बताएं कि बिना उपवास किए एकादशी का फल कैसे प्राप्त किया जा सकता है।


भीम के अनुरोध पर वेद व्यास जी ने कहा- पुत्र! तुम ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन निर्जल व्रत करो। इस दिन अन्न और जल दोनों का त्याग करना पड़ता है।


कब से कब तक जल और अन्ना का त्याग और महत्व :


जो भी मनुष्य एकादशी तिथि के सूर्योदय से द्वादशी तिथि के सूर्योदय तक बिना पानी पीये रहता है और सच्ची श्रद्धा से निर्जला व्रत का पालन करता है, उसे साल में जितनी एकादशी आती हैं उन सब एकादशी का फल इस एक एकादशी का व्रत करने से मिल जाता है। इसी कारण वर्ष निर्जला एकादशी को हम भीमसेन एकादशी भी कहते है ।

निर्जला एकादशी मुहूर्त:


एकादशी तिथि प्रारंभ - 02:57 PM (01 जून 2020)

एकादशी तिथि समाप्त - 12:04 PM (02 जून 2020)

पारण मुहूर्त - 05:23 AM से 08:8 AM तक (03 जून 2020)


धार्मिक मान्यता के अनुसार, निर्जला एकादशी के दिन:


धार्मिक मान्यता व्यक्ति सभी प्रकार के कष्टों से मुक्त हो जाता है। व्रत के साथ-साथ इस दिन दान कार्य भी किया जाता है। दान करने वाले व्यक्ति को पुण्य की प्राप्ति होती है। कलश दान करना बेहद ही शुभ माना जाता है। इससे व्यक्ति को सुखी जीवन और दीर्घायु प्राप्त होती है। 


Please feel free to write us at sanskar@hindusanskar.org, we would be happy to aasist you, its all about Sanskars...

17 views0 comments