top of page

जाप और जाप माला के वैदिक पद्दिती और नियम :

जाप और जाप माला के पारंपरिक नियम और उपयोग:


  • अपनी माला को साफ जगह पर रखें, अपनी वेदी पर या गोमुखजप माला बैग में।

  • अपनी माला पहनने से पहले, अपने माथे पर तीसरे नेत्र केंद्र पर गुरु मनका स्पर्श करें।

  • किसी को छूने या अपनी माला का उपयोग न करने दें।

  • अन्य लोगों को अपनी माला दिखाने से बचें और विशेष रूप से गुरु मनका को छिपाकर रखें।आपकी माला एक शक्ति है असीम मन्त्रों की,

  • शौच, सोते समय या संभोग करते समय अपना माला निकालें।

  • अपने माला साफ और अच्छी तरह से बनाए रखें। यदि माला छिल जाती है, टूट जाती है, या चटक जाती है, तो आपको माला की मरम्मत या प्रतिस्थापन करना चाहिए।

जप के दौरान मौन का निरीक्षण करें
find a peaceful place

👉 जप ध्यान के लिए सबसे अनुकूल समय है ब्रह्ममुहूर्त, ब्रह्मा का समय, सूर्योदय से डेढ़ घंटे पहले। यह तब है जब सत्त्वगुण (शुद्धता या स्थिरता) सबसे प्रमुख है। दूसरा सबसे अच्छा समय सूर्यास्त पर है, और तीसरा सबसे अच्छा दोपहर है।


👉 जप के लिए बैठने से पहले स्नान करें या अपने हाथ, पैर और चेहरे को धो लें और अपने दांतों को ब्रश करें। साफ कपड़े पहनें।


👉 जप का अभ्यास करते समय पूर्व या उत्तर की दिशा में मुख करें। पूर्व और उत्तर को "देवताओं का निवास" माना जाता है और प्रार्थना करते समय या ध्यान करते समय सबसे अधिक लाभकारी और शक्तिशाली दिशा होती है।


👉 अपने जप ध्यान के लिए एक साफ और विशेष आसन तैयार करें। आदर्श रूप से, एक गलीचा पर बैठो और ध्यान तकिया का उपयोग करें।


👉 एक ही जगह और एक ही समय पर रोजाना जाप करने का अभ्यास करें। एक ऐसे कमरे में ध्यान करें जो शांत और शांत है, या एक मंदिर, ध्यान केंद्र या एक नदी के किनारे भी बैठ सकते है ।


👉 जप के दौरान मौन का निरीक्षण करें और सभी बाहरी विकर्षणों को दूर करें।


👉 पद्मासन, सिद्धासन या सुखासन जैसे स्थिर बैठे ध्यान मुद्रा को बनाए रखें। सुनिश्चित करें कि मुद्रा आरामदायक और स्थिर है, इसलिए यह विकर्षण पैदा नहीं करेगा।

Sit in padmasana, siddhasana or sukhasana
पद्मासन, सिद्धासन या सुखासन जैसे स्थिर बैठे ध्यान मुद्रा को बनाए

👉 जप का अभ्यास करते समय अपनी माला को अपनी नाभि से नीचे न रखें। जप के दौरान अपने माला को हृदय केंद्र में या अपनी तीसरी आंख के सामने रखें।


👉 मंत्र के साथ मोतियों को छूने और स्थानांतरित करने के लिए मध्य उंगली और दाहिने हाथ के अंगूठे का उपयोग करें। तर्जनी का उपयोग निषिद्ध है क्योंकि यह अहंकार मन का प्रतिनिधित्व करता है।


👉 अपने अभ्यास को समाप्त करने से पहले एक निश्चित न्यूनतम संख्या में माला पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध रहे । अपने जाप पर नज़र रखें और समय के साथ धीरे-धीरे जाप बढ़ाने का प्रयास करें।


👉 अपने माला मंत्र को गुप्त रखें। अपने मंत्र को 108 से 1,080 बार प्रतिदिन दोहराएं (एक पूर्ण माला के एक से दस चक्कर)।

गोमुख जप माला बैग

👉 अपने गुरु या शिक्षक से अपना मंत्र प्राप्त करना सबसे अच्छा है। यदि यह संभव नहीं है, तो ध्यान से अपने लक्ष्यों और इरादों के आधार पर एक मंत्र का चयन करें।


👉 अपने मंत्र को स्पष्ट और स्पष्ट रूप से और बिना किसी गलती के उच्चारण करें - भले ही आप चुपचाप जप कर रहे हों। यदि आप एक गलती करते हैं तो मंत्र दोहराएं।


👉 जप जल्दी या लापरवाही से अभ्यास न करें। इसे धीरे-धीरे और मन से भावना, ध्यान और एकल-मन भक्ति के साथ करें।


👉 एक मंत्र को बहुत धीरे-धीरे दोहराने से ऊब पैदा होगी और बहुत तेजी से दोहराए जाने से आपका ध्यान बंट जाएगा। जब मन भटकता है, तो ध्यान केंद्रित करने के लिए गति को समायोजित करें। आपको जाप की पुनरावृत्ति को सांस की लय के साथ जोड़ना मददगार हो सकता है।

मंत्र उच्चारण  और मंत्र शक्ति
मंत्र उच्चारण

👉 रुचि बनाए रखने, थकान से बचने और एकरसता का मुकाबला करने के लिए अपने जप तकनीक के साथ प्रयोग करें। आप मंत्र को जोर से और मानसिक रूप से दोहराने के बीच बारी-बारी से कोशिश कर सकते हैं। जब आप नींद या उनींदापन महसूस करते हैं तो आप अपने बैठे मुद्रा को बदल सकते हैं।


👉 जप का अभ्यास आंखों को आंशिक रूप से बंद और नरम टकटकी के साथ किया जाना चाहिए। यह शरीर के प्राण को एकजुट करने और विलय करने में मदद करता है और शरीर के ऊपर से नीचे तक एक इलेक्ट्रिक लूप बनाता है। भौंहों के बीच या अपनी नाक की नोक पर अपनी टकटकी को कर सकते है ।

👉 जप करते समय मंत्र का अर्थ बताएं। अपने दिल को शुद्ध करने, इच्छाओं को नष्ट करने, तृष्णा को दूर करने और अपने मन को स्थिर बनाने की मंत्र की शक्ति को महसूस करें। जपा की प्रथा छह विकार (वासना / इच्छा, क्रोध, लोभ, मोह, अभिमान / अहंकार और ईर्ष्या) को नष्ट कर सकती है।


👉 यदि आप जप के दौरान छींकते हैं, जम्हाई लेते हैं या खांसी करते हैं, तो इसे अशुद्धता माना जाता है, और आपको एक नए दौर की शुरुआत करनी चाहिए।


👉 अपने जाप अभ्यास को पूरा करने के बाद कुछ समय के लिए चुपचाप बैठें और ध्यान के प्रभावों को महसूस करें।


👉 अपने दिन और नियमित कार्यों के साथ आगे बढ़ने से पहले भक्ति के क्षण के साथ अपना अभ्यास समय समाप्त करें। अपने बैठने के अभ्यास के बाद आप अन्य गतिविधियों के दौरान मानसिक रूप से जप की धारा जारी रख सकते हैं।

ईश्वर से प्रेम करे डरे नहीं,

🙏🏼🙏🏼आपका दिन मंगलमय हो🙏🏼🙏🏼

कृप्या अपने प्रश्न साझा करे, हम सदैव तत्पर रहते है आपके प्रश्नो के उत्तर देने के लिया, शास्त्री जी से प्रश्न पूछने के लिया हमे ईमेल करे sanskar@hindusanskar.org संस्कार और आप, जीवन शैली है अच्छे समाज की, धन्यवाद् 

35 views0 comments