🕉 मंत्र, श्लोका और आरती 🕉
मुख्य रूप से यह पूजा-आरती करने वाले की पांच इंद्रियों का उत्थान करना है, और उसे उच्च स्तर की चेतना में उभारना है जो अच्छे विचारों और कार्यों को बढ़ावा देगा